HINDI: SAMPOORNA CALLS FOR COMMUNITY PARTICIPATION FOR TRANSGENDER DAY OF REMEMBRANCE (TDoR) 2018

ट्रांसजेंडर स्मरण दिवस २०१८ के पक्श में समुदाय की भाग्यदारी के लिए संपूर्ण का कॉल

इस कैंपेन के पीछे कौन है?

इस ट्रांसजेंडर स्मरण दिवस को, संपूर्ण वर्किंग ग्रुप [इस. पी. डब्लू. जी.] और एशिया-पसिफ़िक ट्रांसजेंडर नेटवर्क [ऐ. पी. टी. इन.]  ने आयोजित किया है।

ट्रांसजेंडर स्मरण दिवस का संक्षिप्त इतिहास

नवंबर २८, १९९८ को रीता हेइस्टर की क्रूर हत्या की गयी। बोस्टन की वह एक बहुत प्रसिद्ध और प्रिय अफ़्रीकी अमेरिकी ट्रांस महिला थीं। उनका शरीर २० छुरा भोंकने के ज़ख्मों के साथ पाया गया। इसी घटना से जनम हुआ, ट्रांसजेंडर स्मरण दिवस का। इस दिन हम उन सभी ट्रांस समुदाय के लोगों को याद करते हैं जो हिंसा का शिकार हुए हैं। रीता हेइस्टर का केस २००६ में फिर से खुला, पर उम्मीद के मुताबिक, उसका कभी भी हल नहीं निकला। जिन समुदायों का वह हिस्सा रही थीं, वहां से उत्पन दुःख और क्रोध के विस्तार ने, विष्व भर में, २० नवंबर को,  ट्रांसजेंडर स्मरण दिवस का आकार दिया।

विष्वभर में, इस दिन की मान्यता भड़ी है और यह उन ट्रांस और लिंग विविध लोगों के जीवन को याद करने का और सम्मान देने का दिवस है जिनका जीवन, नफरत के अपराध और हिंसा का शिकार हुआ है।

ट्रांस और लिंग विविध भारतीय लोगों के प्रति हिंसा 

ना ही ट्रांस और लिंग विविध लोगों को, खासकर उत्पीड़ित जाती और वर्ग के भारतीय लोगों को, किसी भी प्रकार के स्वास्थ देखभाल, आश्रय, पोषण, शिक्षा और रोज़गार की पहुँच है, बल्कि नफरत के अपराधों के खिलाफ हमारे पास आज कोई भी राज्य संरक्षण नहीं है। ट्रांसजेंडर व्यक्ति [अधिकार विधेयक संरक्षण] २०१६ ने एक ज़बरदस्त उल्लंघन करते हुए, ट्रांस लोगों के ओर अपराधों के विस्तृत स्पेक्ट्रम के प्रति, केवल २ साल की अधिकतम सजा का प्रस्ताव दिया है। इसके अतिरिक्त इस बिल ने भीक मांगने का अपराधीकरण किया है, जो की उन ट्रांस औरतों को, जो सड़क-आधारित श्रम करतीं हैं, उनके लिए आजीविका उपलब्धि के बहुत कम विकल्पों में से एक है।

जिस दण्ड मुक्ति के भाव से पुलिस ट्रांस लोगों और हिजरा बहनों के प्रति अत्याचार करती है, यह सभी जानते हैं। आपको याद होगा की किस प्रकार चेन्नई के एक पुलिस ठाणे के कम्पाउण्ड में,  तारा को जलाया गया था। कोई भी पूछताछ नहीं हुई। और अधिकारीयों के खिलाफ कोई भी कार्यवाही नहीं हुई।

हर साल, हम कैंडल-लाइट विजिल एक दौरान साथ आतें हैं और अपने उन प्रिये जनो को याद करते हैं जिनको हमनें गवाया है। हर साल, यह लिस्ट लम्बी होती जाती है। हर साल, हमारी आत्मा भरी होती जाती है।

इस साल हम उन आवाज़ों को बढ़ावा देना चाहतें हैं जो जिन्दा हैं। और साथ साथ उनकी सहीदी को याद करना चाहतें हैं जिनको हमनें ट्रांस्फोबिअ के तहत खोया है। अगर आप अपने पे हुई हिंसा को साझा करना चाहतें हैं, या यह कहना चाहतें हैं की इस हिंसा का सामना कैसे किया जाये, ताकि ऐसे समर्थन प्रणाली को बनाया जाये जो हमारे समुदायों की जरूरत है, तो आप अपनी आवाज़ और सोच को आगे लाएं। 

यह कैंपेन आपका है 

यह कैंपेन आपका है वह ट्रांस व्यक्ति जो भारत वर्ष में रहतें हैं, उनको इस कैंपेन में हिस्सा लेने के लिए हम निमंत्रण देतें हैं।

कैंपेन में हिस्सा लेने के लिए हम निमंत्रण देतें हैं।

नीचे एक सूची सुज़हाई गयी है। अगर आप अपने आप को सुरक्षित समजह्तें हैं तो अपना अनुभव साझा करें।

अगर फ़ोन पर बात करने में आप अपने आप को ज्यादा सुरक्षित पातें हैं तो हमें संपर्क करें।

हमारा ईमेल आ. दी. है: sampoornawg@yahoo.com

नीचे दी गयी सूची, कोई पूर्ण सूची नहीं है। अगर कोई ऐसी बात है जो इस सूची के बहार है, तो हमें लिखने से संकोच न करें।

सुझाये गए विषय: 

  1. हिंसा – आपका अपना अनुभव, या आपके विचार की इस हिंसा से कैसे जूंझा जाये।
  2. आज़ादी आप के लिए क्या है ? आपको अपना जीवन आज़ादी से जीने के लिए क्या सक्षम बना सकता है ?
  3. जो ट्रांस नहीं हैं , उनकी क्या जिम्मेदारी बनती है की वह ट्रांस लोगों के लिए समाज को सुरक्षित बनाएं?

आपको  कितना लिखना है ? 

आप केवल कुछ लाइनने लिख सकतें हैं, या एक/दो पन्ने भी लिख सकतें हैं।

कैंपेन के लिए आपके लेख को प्रभावी रूप देने के लिए हम आपकी मदद करेंगें।

आप किस भाषा में लिख सकतें हैं? 

आप, अपनी मन चाही भाषा में लिख सकतें हैं।

आपका फोटो अनिवार्य नहीं है 

आप अपना फोटो तभी शेयर करें अगर आप अपने को सुरक्षित समझतें हों।  इसे, आपके लेख के साथ तभी इस्तेमाल किया जायेगा।

आपका फोटो बिलकुल भी अनिवार्य नहीं है। जो अनियार्य है, वह है समाज को जानना की वह हम पर कितने हिंसक हैं।

आप हमें अपना लेख/लेख + फोटो/फ़ोन पर बात करने का निवेदन इस ईमेल आ. दी. पर भेजें: sampoornawg@yahoo.com

 

धन्यवाद
दीन, जी, नदीका और सत्य
संपूर्ण कार्यदल
संपूर्ण [भारतीय ट्रांस* और इंटरसेक्स व्यक्तियों के द्वारा – भारतीय ट्रांस* और इंटरसेक्स व्यक्तियों के लिए – दुनिया भर में]

अनुवादक: सत्य राय नागपॉल 

One thought on “HINDI: SAMPOORNA CALLS FOR COMMUNITY PARTICIPATION FOR TRANSGENDER DAY OF REMEMBRANCE (TDoR) 2018

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s